Popular Posts

Saturday, April 14, 2018

प्रश्न अब भी शेष है ?

बहुत कुछ दिखता
बहुत कुछ नहीं भी
पर भीतर बहुत कुछ
आलोड़ित होता रहता है
खुद से सवाल
खुद को जवाब देना
सरल नहीं होता है
जब भी
कर्ण छला जाता है
केशव! तुम भी
उसमें शामिल होते हो!
क्या कहूं? फिर, तुमसे
मेरे सामने सिर्फ,
सवाल होतें हैं ?
क्यों किसी को इतना भाग्यहीन बनाते हो?
कि वह पाकर भी खाली हाथ
और दे कर भी!
कोई नहीं होता है
न यश, न कीर्ति!
सब कुछ समर्पित करने के बाद भी!
तुम उसे कुछ नहीं दे पाते?
ये कैसी विडम्बना है!
उद्वेलित करता है मन को
कभी तो मान रख लेते
उसका भी!
जानती हूँ
वह समकक्ष नहीं किसी के
फिर भी, उसकी आत्मा भी तो
तड़पती होगी
सब कुछ समर्पित करने के बाद
वह नितांत अकेला और खाली हाथ है
हे केशव!
ऐसा क्यों होता है ?
यह प्रश्न अब भी शेष है ?

Tuesday, April 10, 2018

नेह की डोर

केशव!
जानती थी
इस जीवन में
सब कुछ नश्वर था
फिर, मन कहाँ माना!
तुमको अर्पित कर आई
तुम से मन का कहती आई
दुःख था या सुख
तुमसे सब कुछ बांटा.
तुम सुनते थे
मन हल्का हो जाता था
लेकिन, केशव!
दुनिया रोज सिखाती है
नए जोड़-तोड़
मैं सीख पाई
वह किस्सा-कहानी
इस लिए
राधा अकेली रह जाती है
पनघट पर खड़ी!
सिर्फ, तुम्हारी राह देखती है
कभी तो गुजरोगे इधर से
तब, फिर से अपनी
तुमसे कहेंगे!
केवल, विनती है तुमसे
कि नेह की डोर थामे रहना
उसमें ही बसी हैं
मेरी सांसो की आवाजाही
केशव!

Sunday, April 8, 2018

तुम जानते हो!

श्याम !
तुमने देखा है
पढ़ा भी है
छुआ भी है
मेरी हथेलियों की रेखा को
जीवन दो दिन की नहीं
दो पल का
साथ-साथ नहीं होता
तुम बोलो या चुप रहो
तुम्हारा मन तो
अकेले में
मुझे ही पाता होगा
मुझे ही जीता होगा
मुझे ही मनाता होगा
श्याम!
तुम जानते हो!
मेरी अकथनीय
मेरी वेदना
मेरी संवेदना
जिन पलों को हमने जिया
दो पल का
साथ-साथ नहीं होता
तुम मेरे रहो या नहीं
तुम्हारा मन तो
अकेले में
मेरे ही पास होता है
मेरे ही साथ होता है
मेरे ही लिए होता है
श्याम!
तुम जानते हो!

Monday, March 19, 2018

तुम्हारी प्रतीक्षा में

मोहन

बहुत देर तक 

खड़ी थी 

तुम्हारी प्रतीक्षा में 


मैं जानती हूँ 

कि तुम्हारी सूची के अंत में 

मेरा ही नाम लिखा है 


यह मानती रही 

कि तुम्हारी हूँ सिर्फ तुम्हारी 

मैं हूँ सौभाग्यवश !


यह जीवन गुजरती रही  

मिलन-विरह के बीच

जीवन में पाना ही सब कुछ नहीं होता 


बहुत खोने के बाद 

अपने मूल्य का पता चलता है 

उस शून्य भाव में एक हलचल के बाद 


सब शिथिल है 

आवेग, आवेश, अहम् 

मोहन, तुमने ही आते-आते देर कर दी 


वरना इस देहरी पर 

हमेशा दिया जलता था 

अँधेरा कौन चाहता है, अपनी जिंदगी में 

Wednesday, March 7, 2018

बहुत धीरे-धीरे बहती है

चैत की रसीली हवा
कुछ कहती है
धीरे से
तुमसे
सुनो न!
बहुत धीरे-धीरे बहती है
सरसराती हुई
अटखेलियां करती है
तुम्हारे केशों से
लहराती हुई
तुम्हारे गालों को
चूमती है
उसमें आम की मंजरी
सजा देना
उसकी खुशबु
मुझे भी
मदहोश कर देगी
तब शायद!
जिंदगी के सारी हैरानियाँ
उस पार हो जाएँगी
तब तुम
उस हवा के झोंको को
रोकना मत
कि तभी
कानो में मेरे भी गूंजती है
धीरे समीर यमुना तीरे

Sunday, March 4, 2018

बहुत कुछ चटका

बहुत कुछ चटका
उसके जाने के बाद
पर थोड़ी-सी भी आवाज़ नहीं हुई

ख़ामोशी में
दब गई सारी किलकारी

समझ नहीं आता
बिना आहट के
सब अचानक कैसे उजड़ गया

सब बातें-किस्सों में उलझे थे
किसी ने नहीं सुना
मेरे मन का रुदन

वह रोता था
अपने उजड़े चमन को देख कर
बिलखते मासूमों को देख कर

केशव! हर डोर तुम्हारे हाथ है
तुम जो करते हो, वह अच्छा होता है

पर, मन कहाँ स्वीकार कर पाता है .....

Saturday, March 3, 2018


u`R; esjh Hkk’kk gS&ekyfodk l:dbZ

HkjrukV~;e u`R;kaxuk ekyfodk l:dbZ us cpiu ls gh u`R; lh[kus yxha FkhaA mUgksaus ratkoqj “kSyh dks xq: dY;k.klqanje fiYyS vkSj oktqoqj “kSyh dks xq: jktkjRue ds lfu/; esa lh[kkA mUgksaus xq: dykfuf/k ukjk;.ku ds lkfu/; esa vfHku; dh ckjhfd;ksa dks vkRelkr fd;kA og vius thou ds yxHkx ikap n”kd u`R; dk lefiZr dj pqdh gSaA mUgsa laxhr ukVd vdkneh vkSj in~eJh lEeku fey pqdk gSA fiNys fnuksa lqea= ?kks’kky us muds thou ij vk/kkfjr MkWD;wesaVªh fQYe ^vulhu lhDosal^ cukbZ gS] ftls chchlh ds pSuy ls izlkfjr fd;k x;k] tks dkQh pfpZr jgkA fiNys fnuksa jtk QkmaMs”ku dh vksj ls vkVZ eSVj dk;Zdze esa ekyfodk us f”kjdr fd;kA
bafM;k baVjus”kuy lsaVj esa vk;ksftr bl dk;Zdze esa u`R;kaxuk ekyfodk l:dbZ us HkjrukV~;e vkSj u`R; ds ckjs esa ppkZ fd;kA og ekurh gSa fd “kkL=h; u`R; dh lrr~ izokgeku ijaijk gSA og dgrh gSa fd ,d thoar vkSj egku ijaijk esa cnyko] lgt izfdz;k gSA tgka rd ijaijk dh ckr gSA eSa u`R; djrh jgh gwaA xq: us tks fl[kk;k] mls nks n”kd djrh jghA ysfdu] nks n”kd ckn] esjs eu esa loky mBus yxs vkSj eSa [kqn ls loky iwNus yxh fd D;k ijaijk vkSj ifjorZu lkFk&lkFk ugha py ldrsA esjs ?kj dk [kqyk] lfdz;] ljy ekgkSy jgk gSA gekjs ;gka ckrphr ds nkSjku dksbZ Hkh loky iwN ldrk gSA njvly] iz”u djuk thou dk fgLlk gSA eSaus viuh eka ls loky iwNk fd D;k eSa HkjrukV~;e ds ijaijkxr u`R; fo’k;&oLrq ds vykok] u`R; ugha dj ldrhA fQj] eSa dqN laLd`r fo}kuksa ds laidZ esa vkbZA ml dze esa eSaus laLd`r jpukvksa ij ubZ u`R; jpukvksa dks is”k fd;kA /khjs&/khjs le; chrk] vkSj eSa rfey fo}kuksa ds lkFk esjh ckrphr gqbZA muls eq>s le`) rfey lkfgR; ds ckjs esa irk pyk vkSj esjk eu mu jpukvksa dks u`R; esa fijksus ds fy, mRlqd gqvkA yxkrkj dksf”k”k djds eSaus mUgsa u`R; jpukvksa esa fijks;kA rc eSaus eglwl fd;k fd HkjrukV~;e u`R; flQZ ,d u`R; “kSyh ;k ,d ijaijk ek= ugha gSA okLro esa] HkjrukV~;e u`R; vius&vki esa ,d iw.kZ Hkk’kk gS] tks bls izLrqr djus okys ;kfu u`R;kaxuk vkSj jfld n”kZd ds chp laokn dk tfj;k curk gSA eq>s yxrk gS fd u`R; ds fy, lkfgR; ds “kCn gh lc dqN ugha gSaA eq>s yxrk gS fd  “kCn u`R; ds fy, dsanzh; rRo ugha gSaA ,sls esa gh eSaus HkjrukV~;e dh vkokt dks vius vanj eglwl fd;k gSA eSa ijaijk esa fo”okl djrh gwaA ijaijk dk vknj djrh gwa] blds tfj, eSaus vius u`R; izLrqfr dks foLrkj fn;k gSA
u`R;kaxuk ekyfodk l:dbZ u`R; dks viuk thou ekurh gSaA og dgrh gSa fd Ekq>s u`R; dh izsj.kk eka ls feyhA eSa ekurh gaw fd esjs u`R; ij esjs xq:vksa dk izHkko jgk gSA eq>s J`axkj ds lkSan;Z dk ifjp; dykfuf/k vEek us djok;kA xq: dY;k.kh lqanje ls cgqr dqN lh[kkA ysfdu] eka fd ,d ckr ges”kk ;kn jgrh gS fd og dgrh Fkha fd vxj vki ryk”k djksxs rHkh dqN vkidks feysxk] rHkh vkxs c<+us dh izsj.kk feysxhA eq>s ;kn vkrk gS cpiu esa tc lkr&vkB lky dh Fkh] rc eka eq>s ysdj ;kfeuh d`’.kewfrZ] la;qDrk ikf.kxzgh] lksuy ekuflag tSls u`R;kaxukvksa ds dk;Zdze esa ysdj tkrh FkhA eSa dqN le; ns[krh vkSj dqN le; lks tkrhA tc oks dykdkj u`R; ds dze esa dqN [kkl LVsIl is”k djrha rks eka eq>s fgykdj txkrha vkSj mUgsa ns[kus dks dgrhA fQj] eSa gkSys ls txrh vkSj u`R; ns[kus yxrhA mlh nkSjku eq>s ckyk ljLorh th dk u`R; ns[kus dk volj feykA muds vfHku; vkSj ,d&,d Hkko dh lw{e ckjhfd;ka eq>s eu ds vanj rd Nw xbZ FkhA
u`R;kaxuk ekyfodk l:dbZ ekurh gSa fd u`R; esa v/;kfRed izse dh vuqHkwfr gksrh gSA og viuh ppkZ dks vkxs tkjh j[krs gq,] dgrh gSa fd eq>s yxrk gS] vyx&vyx HkDr dh HkfDr dk vyx&vyx jax gSA HkfDr tc mPp ijkdk’Bk ij igqaprh gS rc lHkh dh HkfDr Hkkouk ,d tSlh gh izrhr gksrh gSA og jaxfoghu gksrh gSA ,d iy ds fy, og Lora= gksrh gS] og ,d {k.k dk tknw gS] og ,d {k.k dk frjksgu gS] og esjs fy, egRoiw.kZ gSA ml oDr eq>s u`R; djrs gq,] yxrk gS fd flQZ eSa ml LFkku fo”ks’k ij u`R; ugha dj jgh gwaA cfYd] og LFkku fo”ks’k esjs lkFk u`R; dj jgk gSA eSa ,d lkFk “kkafr vkSj Lojksa ds lkFk u`R; dj jgh gwaA ml le; ,d&,d xfr;ka esjs fy, ewY;oku gks tkrh gSaA rc eq>s yxrk gS fd tSls esjs lkFk xkus okyk vius lqj dks rkuiqjs ds lqj ds lkFk ftl rjg la;ksftr dj jgk gS] oSls gh esjs vax&izR;ax dh fFkjdu “kjhj :ih racwjs ds lkFk lqj feyk jgh gSA
vyx&vyx nkSj esa dykdkjksa dks vyx&vyx pqukSfr;ksa dk lkeuk djuk iM+rk gSA igys dh ihf<+;ksa dks lekt }kjk dyk dh Lohd`fr ds volj dh ryk”k FkhA ogha ckn dh ihf<+;ksa dks viuh igpku vkSj u, ifjos”k ds le{k [kqn dks izLrqr djus dh pqukSrh FkhA tcfd] vkt ;qok dykdkjksa ds le{k fQYeh nqfu;k] jh;fyVh “kks] baVjusV vkSj reke rjg dh pqukSfr;ka gSaA ,sls esa ;qokvksa dks lans”k nsrs gq,] ekyfodk l:dbZ dgrh gSa fd Ekq>s yxrk gS] ge tc ;qok Fks] ml le; bruk ncko ugha Fkk] ftruk vkt ds ;qok dykdkjksa dks lguk iM+ jgk gSA ;qok dykdkjksa dks LFkkbZ lg;ksx dh t:jr gSA e/;e ntsZ ds ctk; fof”k’V izfrHkk okys dykdkjksa dks pqudj] mUgsa vkxs c<+kus dk iz;kl fd;k tkuk pkfg,A blds lkFk gh] mUgsa yxkrkj izksxzke fn;k tkuk pkfg,] rkfd mUgsa igpku feys vkSj yksx mUgsa volj nsaA ;qok dykdkjksa dks lh[krs le; “kq:vkr esa tks xq: fl[kk,a] mldk iw.kZ vuqdj.k djuk pkfg,A dqN lkyksa ckn] viuh [kqn ds O;kdj.k dk fodkl djuk pkfg,A mlds ckn] [kqn dh ryk”k djuh pkfg, fd mudk eu D;k pkgrk gS\ og viuh dyk ;k vius&vki ls D;k pkgrs gSa\ D;ksafd dyk dh ;k=k vuar gSA ;g yack lQj gSA bl ;k=k dks lQy cukus ds fy, NksV&NksVs iM+ko rks cukus iM+saxsa rHkh vki lQy dykdkj cu ldrs gSaA blds fy, vkidks yxkrkj izsfjr gksus dh t:jr iM+rh gSA